Success Story Of IAS Topper Chandrima Attri

Success Story Of IAS Topper Chandrima Attri:  साल 2019 में निबंध के पेपर में चंद्रिमा ने सबसे ज्यादा नंबर हासिल कर रिकॉर्ड बनाया. आज आपको बता रहे हैं कि निबंध के पेपर में चंद्रिमा ने कौन सी स्ट्रेटजी अपनाई थी.

Success Story Of IAS Topper Chandrima Attri: अगर आप यूपीएससी की परीक्षा में सभी विषयों पर अच्छी तरह से फोकस करेंगे तो बेहतर नंबर हासिल कर आप सफलता प्राप्त कर सकते हैं. चंद्रिमा को सालों असफलता मिलने के बावजूद नहीं छोड़ा आईएएस बनने का सपना, चंद्रिमा को मिली सफलता , जिसमें तमाम लोग कठिनाई महसूस करते हैं. यूपीएससी में निबंध ऐसा पेपर होता है आज आपको 2019 सिविल सेवा परीक्षा में सफलता प्राप्त कर आईएएस अफसर बनने वाली चंद्रिमा अत्री की कहानी बताएंगे, जिन्होंने निबंध के पेपर में सबसे ज्यादा नंबर प्राप्त कर रिकॉर्ड बना लिया है . पेपर के बारे में उनकी कुछ टिप्स जान लेते हैं.

चंद्रिमा अत्री को चौथे प्रयास में मिली सफलता

Success Story Of IAS Topper Chandrima Attri:   हरियाणा के पानीपत की रहने वाली चंद्रिमा उन्हें यूपीएससी में सफलता पाने के लिए करीब 4 साल तक संघर्ष करना पड़ा. शुरुआती 3 प्रयासों में वह इंटरव्यू राउंड से पहले ही अटक गईं. वहीं चौथे प्रयास में उन्होंने अपनी गलतियों को सुधारा और निबंध में सबसे ज्यादा नंबर प्राप्त कर यूपीएससी 2019 में 72वीं रैंक प्राप्त कर ही ली. उनकी सफलता में निबंध के पेपर का अहम योगदान रहा.

निबंध के लिए स्पेशल टिप्स

Success Story Of IAS Topper Chandrima Attri:  चंद्रिमा के मुताबिक निबंध का पेपर 3 घंटे का होता है और आपको दो विषयों पर निबंध लिखना होता है. सबसे पहले आप अपने समय को दोनों निबंध के अनुसार आधा-आधा बांट लें. इसके बाद तय समय में ही इन निबंधों को लिखें. अब निबंध का स्ट्रक्चर बना लें और यह तय कर लें कि कौन-कौन से प्वाइंट आपको इसमें शामिल करने हैं. आप इन प्वाइंट्स को कहीं नोट भी कर सकते हैं. उसके बाद समय के अनुसार इन प्वाइंट्स को ऐड करके निबंध लिख दें.

चंद्रिमा की सलाह

चंद्रिमा कहती हैं कि तमाम लोग निबंध लिखने के दौरान यह सोचते हैं कि किसी यूनिक टॉपिक पर लिखना चाहिए. लोगों को लगता है कि इससे उन्हें अच्छे नंबर मिलेंगे, लेकिन ऐसा नहीं है. आप किसी कॉमन विषय पर भी निबंध तथ्यों और डेटा के आधार पर स्पष्ट भाषा में लिखेंगे तो बेहतर नंबर प्राप्त कर सकते हैं. इसके अलावा वे कहती हैं कि यूपीएससी के दौरान धैर्य रखकर तैयारी करनी चाहिए. यहां आने वाली चुनौतियों का डटकर मुकाबला करना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा मेहनत करके सफलता की तरफ फोकस करना चाहिए.

यह भी पढ़ेंः

IAS Success Story: Nitin Shakya का डॉक्टर और उसके बाद आईएएस बनने का सफर

Leave a Reply

Your email address will not be published.