पंजाब सिविल सेवा परीक्षा में मोगा की छात्रा उपिंदरजीत कौर अव्वल आकर माँ बाप का नाम रौशन किया

“बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ”

मोगा की 24 वर्षीय छात्रा उपिंदरजीत कौर बराड़ ने पंजाब सिविल सेवा (पीसीएस) परीक्षा में शीर्ष स्थान हासिल किया है, जिसके परिणाम शुक्रवार को घोषित किए गए। उपिंदरजीत कौर ने 898.15 अंक हासिल किए। बाघापुराना अनुमंडल के ग्राम स्मलसर निवासी उपिंदरजीत के पिता स्वर्ण सिंह बराड़ और मां बलजीत कौर बराड़ दोनों सरकारी स्कूलों में शिक्षक के पद पर कार्यरत हैं।

उन्होंने कहा, ” मैंने परीक्षाओं के लिए कड़ी मेहनत की , प्रथम स्थान हासिल करना मेरे लिए आश्चर्य की बात थी,” उन्होंने कहा कि वह अब समाज के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ योगदान देंगी। वह अपने परिवार में और अपने दूर के रिश्तेदारों में भी पहली व्यक्ति हैं जो सिविल सेवाओं में शामिल होंगी।

उपिंदरजीत ने कहा कि उन्हें सिविल सेवा अधिकारी के रूप में देखना उनके पिता का सपना था। उसने दसवीं कक्षा में 91 प्रतिशत और बारहवीं कक्षा में 90 प्रतिशत अंक हासिल किए। उनकी विज्ञान में रुचि थी और उन्होंने जूलॉजी में B.SC और M.SC ऑनर्स किया है। उसने कुछ महीनों के लिए कोचिंग ली लेकिन बाद में पीसीएस परीक्षाओं की तैयारी के लिए अपने घर पर ही पढ़ाई की। उन्होंने कहा “मैं अपनी पढ़ाई पर लगातार थी, जिसने मुझे परिणाम दिए,”

समाज में सभी को अपनी बेटियों को पढ़ाकर उन्हें भी अगली उपिंदरजीत कौर बनने का अवसर देना चाहिए।

जिले के पिछड़े क्षेत्र में आते समालसर के शिक्षक दंपती की  बेटी उपिदरजीत कौर ने पिता को अनमोल तोहफा दिया। इस परिवार का कभी कोई सदस्य प्रशासनिक सेवा में नहीं रहा है, लेकिन शिक्षक परिवार की इस बेटी ने पंजाब सिविल सर्विसेज (पीसीएस) में टाप कर पीसीएस अधिकारी बनने के परिवार के सपने को पूरा कर दिखाया।

टाप करने वाली उपिदरजीत कौर ने कहा कि वैसे तो उसकी सफलता में जितना सहयोग पिता स्वर्ण सिंह का रहा है, उतना ही मां का भी है। लेकिन पिता का योगदान इसलिए भी ज्यादा रहा क्योंकि उन्होंने उसे हर कदम पर मोटीवेट ही नहीं किया, बल्कि पीसीएस की तैयारी के लिए जिस प्रकार की पाठ्य सामग्री की जरूरत पड़ी, उन्होंने उपलब्ध करवाई, शायद यही वजह है कि पहले प्रयास में ही सफलता भी मिली

5 thoughts on “पंजाब की बेटी ‘उपिंदरजीत कौर बराड़’ ने पंजाब सिविल सेवा (PCS)2020 प्रवेश परीक्षा में किया टॉप”

Leave a Reply

Your email address will not be published.