जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में रहने वाले होनहार छात्र मनदीप सिंह ने साबित कर दिया है कि हौसले बुलंद हों तो कठिन से कठिन राह आसान हो जाती है.

जम्मू-कश्मीर में उधमपुर के छात्र मनदीप 10वीं कक्षा में 98.06% अंक हासिल कर जिला टॉपर बने हैं. लॉकडाउन लगने के बाद वह स्कूल नहीं जा सका और ऑनलाइन क्लास के लिए उनके पास फोन या कंप्यूटर भी नहीं था.

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर के एक छात्र मनदीप सिंह ने राज्य शिक्षा बोर्ड की 10वीं कक्षा में 98.06 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं. वह अपने जिले का टॉपर है लेकिन यहां तक पहुंचने के लिए उसने कई चुनौतियों का सामना किया है. मनदीप सिंह ने कहा कि पिछले साल लॉकडाउन के कारण वह स्कूल नहीं जा सका और ऑनलाइन क्लास के लिए उनके पास फोन या कंप्यूटर नहीं था. पूरी लगन और अपने परिवार के सदस्यों और शिक्षकों की मदद से उसने न केवल अच्छी पढ़ाई की बल्कि परीक्षा में टॉप भी किया.

डॉक्टर बनने की ख्वाहिश रखने वाला मनदीप अमरोह गांव में रहता है. उनके पिता श्याम सिंह एक किसान हैं और मनदीप कभी-कभी पिता के साथ खेतों में भी काम करता है. उनकी मां संध्या देवी गृहिणी हैं. मनदीप ने कहा कि वह सरकारी हाई स्कूल के अपने शिक्षकों का आभारी है जिन्होंने उसे पढ़ने के लिए किताबें दीं.

बड़े भाई ने की पढ़ाई में मदद

जम्मू-कश्मीर के उधमपुर का मनदीप सिंह राज्य बोर्ड में 98.6% अंको के साथ जिले में टॉप पर हैं. उसने कहा “लॉकडाउन के दौरान मेरे भाई ने मेरी पढ़ाई में मेरी मदद की मेरे गांव अमरोह में अपर्याप्त बिजली आपूर्ति और अन्य चुनौतियों के बावजूद, मैं पढ़ाई करने में कामयाब रहा.”

अब नीट की परीक्षा पास करने की चाहत

मनदीप को सबसे ज्यादा मदद अपने बड़े भाई से मिली जो जम्मू स्थित शेर-ए-कश्मीर कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में पढ़ते थे, लेकिन कोरोना वायरस प्रतिबंधों के कारण घर लौट आए थे. मनदीप का कहना है कि वह अब नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) पास करना चाहता है ताकि वह मेडिसिन की पढ़ाई कर सके.

समस्याओं की शिकायत की बजाए स्टडी पर किया फोकस

मनदीप ने यह भी कहा कि सरकार ने दूर-दराज के क्षेत्रों में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए बहुत सारी पहल की हैं. उसने सरकार से अनुरोध किया है कि गरीब छात्रों को सपोर्ट करे और उनके सपनों को प्राप्त करने में उनकी मदद करें. अपने दोस्तों के बारे में बताते हुए उसने कहा कि उन्होंने लॉकडाउन में पढ़ाई में दिक्कत आने की शिकायत की, जो कि सही थी. हालांकि उसने समस्याओं के बारे में शिकायत करने के बजाए स्टडी पर फोकस किया और कड़ी मेहनत की.

विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए मनदीप ने दसवीं की परीक्षा में 98.6 फीसदी अंक हासिल किए हैं. मनदीप ने जिले में टॉप कर दूसरे छात्रों के लिए मेहनत और लगन की मिसाल पेश की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You have successfully subscribed to JobChahiye alerts and newsletter

There was an error while trying to send your request. Please try again.

Job Chahiye will use the information you provide on this form to be in touch with you and to provide updates and marketing.